Thursday, 27 September 2012


तेरे रूठ के जाने में भी ये ख़ुमार रहा
कि मिलूँगा फिर, तुझे मनाने के लिए......

मंजरी

No comments:

Post a Comment