Thursday, 27 September 2012


खारों में लिपटे हुए गुलों की तरह
तेरी यादों को महफूज़ रखा हैं मैंने.....

मंजरी

No comments:

Post a Comment