Sunday, 28 June 2015

तमाशबीन की सरहदों को देखा हैं किसने
क़त्ल करके भी अनजान खड़े रहते है ....
मंजरी