Sunday, 28 June 2015

तमाशबीन की सरहदों को देखा हैं किसने
क़त्ल करके भी अनजान खड़े रहते है ....
मंजरी

2 comments:

  1. देखने वाले हैं बहुत हैं और देखते भी हैं
    तमाशा देखने का भी एक अंदाज होता है ।

    बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  2. SADAK PAR SAREAAM KATL HOTA HAI TAMASHABIN BAHUT SE RAHATEYN HAIN , KUCH DIN PAHALE MAINE EK KAVITA ISI TATHY KO LEKAR POST KI THI DUKH HOTA HAI YAH SAB DEKHAKAR , KYON NAHI KARATA SAMAJ PRATIVAD , ABHI BIHAR ME EK VIDYALAYA KE PRINCIPAL KO DO LOG PIT -PIT KAR MAR DALE ,PATRAKAR /MOBILE MAIN PHOTO BANATA RAHA ,,MANZARI JI IS RACHANA KO AGE LIKHEYN

    ReplyDelete