Thursday, 27 September 2012


बेचा हैं जिसने अपना बचपन बाजारों मैं
वो कैसे जाएगा खिलौनों की दुकानों में........

मंजरी

No comments:

Post a Comment