Tuesday, 21 April 2015

उस मुकाम पे आ गया हूँ मैं मोहब्बत में
तेरी बद्दुआ भी अब दुआ सी लगती है मुझे ...

मंजरी
21 april 2015

1 comment: